M. G. POLYTECHNIC HATHRAS
Affiliated by Board of Technical Education Lucknow & Approved by All India Council for Technical Education New Delhi


News/Announcement

Learning from YouTube

Fill Caution Money Form (1) (only for Diploma Holder Students)

Fill the academic details for the Final Year 2021 Appeared Diploma Students Important Notice

  
Notice/Links

Click Here to fill your data to complete NAD details
  
Download Caution Money Form
  
Aarogya Setu App
  

From The Desk Of Principal

(Er. Mukesh kumar)

एम.जी. पॉलीटैक्निक हाथरस का नाम इस नगर की एकमात्र गौरवमयी तकनीकी संस्था के रूप में जाना जाता है। इस संस्था का निर्माण सेठ गजानन्द चौधरी ने अपने पूज्य पिताजी स्व. सेठ श्री मुरलीधर जी की पावन स्मृति में करवाया था। संस्था का उद्घाटन 24 सितम्बर 1955 को उत्तर प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री डा. सम्पूर्णानन्द जी के करकमलों द्वारा किया गया। संस्था का प्रथम नाम मुरलीधर गजानन्द टैक्नीकल इंस्टीट्यूट रखा गया था। इस प्रकार यह संस्था गत 62 वर्षों से संचालित हैं तथा दिन प्रतिदिन प्रगति को ओर अग्रसर है। किसी संस्था की प्रगति संस्था में अध्ययनरत छात्र/छात्राओं के अनुशासन, शिक्षण, प्रशिक्षण, परीक्षाफल एवं संस्था के क्रियाकलापां व गतिविधियों पर निर्भर करती है। तथा इन्हीं आधारों पर छात्र/छात्राओं के प्लेसमेंट की सम्भावनाओं को बल मिलता है जिसमें शिक्षकों व छात्र/छात्राओं की सामंजस्यता सहायक सिद्ध होती है, परिणामस्वरूप वर्तमान में छात्र/छात्राओं में शिक्षण प्रशिक्षण का अच्छा वातावरण उत्पन्न हुआ है। मुझे पूर्ण विश्वास है कि संस्था के छात्र/छात्राऐं जिस प्रकार विगत वर्षों से पूर्ण मनोयोग व लगन के साथ शिक्षण प्रशिक्षण का वातावरण अनुशासित रहते हुए स्थापित कर रहे हैं। मेरे संस्था में योगदान करने के पश्चात से ही मेरा यह प्रयास रहा है कि संस्था की छवि को उच्च कोटि तक पहुँचाने में सहायक बन सकूँ। मेरे प्रिय छात्र/छात्राऐं भी मेरे इस प्रयास से कदम से कदम मिलाकर मेरी इस भागीदारी में जो सहयोग प्रदान कर रहे हैं यह मुझे सदैव ऊर्जावान बनाये रखती है। मेरी सभी छात्र/छात्राओं से अपील है कि वे भविष्य में भी इस प्रकार प्रत्येक क्षेत्र में अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करते हुए संस्था का नाम रोशन करेंगें।

Our Courses

Separated they live in. A small river named Duden flows by their place and supplies it with the necessary regelialia. It is a paradisematic country

56 seats 3 Years

Civil Engineering

The liberties of our country, the freedom of our civil constitution, are worth defending against all hazards: And it is our duty to defend them against all attacks.

Contact Us

56 seats 3 Years

Electrical Engineering

Electrical science has revealed to us the true nature of light, has provided us with innumerable appliances and instruments of precision, and has thereby vastly added to the exactness of our knowledge.

Contact Us

56 seats 3 Years

Computer Science & Engineering

The rise of Google, the rise of Facebook, the rise of Apple, I think are proof that there is a place for computer science as something that solves problems that people face every day.

Contact Us

56 seats 3 Years

Electronics Engineering

In the developed world, we are surrounded by electronics - from the computers on our desks to the smart phones in our pockets to the thermostats in our homes to our data in the virtual cloud.

Contact Us

Request A Quote

Far far away, behind the word mountains, far from the countries Vokalia and Consonantia, there live the blind texts.

Student Says About Us

Separated they live in. A small river named Duden flows by their place and supplies it with the necessary regelialia. It is a paradisematic country